Wednesday, July 21, 2010

मेरी अन्तर वेदिना

मुझे मेरा पहला दिन ससुराल का याद आया सुबह उठते ही सब नया लगा , माँ की जगह सास और भाइयों की जगह देवरों को पाया
घर के नियम और ससुराल के नियमों में अंतर पाया अपने आप को सँभालने में ही महीनों लग गए
मैं अपने छोटे से samrajy की महारानी हूँ , मेरे बगैर घर में कुछ भी नही होता 30 साल से मैं इसे बहुत कुशलता से संभाल कर आ रही थी , कि अचानक
कोई मेरे पीछे खड़ा महसूस किया और देखा , बहु ! एक बार तो मन में आंदोलित हो गया कोई मेरे छोटे से साम्राज्य में घुस गया हे ,फिर अपने आप को
संयमित कर के सोचने लगी ,कि मेरे जैसे ही मेरी बहु भी अपने आप को ससुराल का पहला दिन सा महसूस कर रही होगी !
में सोचने को मजबूर हुई ,कि क्या सास बहु का रिश्ता सिर्फ साम्राज्य के लिए ही लड़ना हे, अन्तर्द्वन्द के बाद मैने कहा बहु चलो हम सब के लिए
आज से तुम खाना बनाओगी,बस सुनते ही बहु कि आखों में एक चमक देखी (जो लडकियं मायके में रसोई से कोसों दूर भागती हे ) वो हिरनी क़ी तरह छ्लंगे मार
कर सारा कम कर रही थी !
खाने के साथ में सोच रही थी ,आज से मेरे साम्रज्य में एक और महारानी का पदार्पण हुआ ! मुझे लगा आज में महारानी से रानीमाँ बन गयी , यह सोच कर
दिल को एक अजीब सी तसली हुई ! और दिल हलका हो गया !

कभी ऐसा क्या औरत सोच सकती हे ?

9 comments:

  1. शानदार! बहुत सुन्दर! रिश्तों और संवेदनाओं की दिल को छूने वाली रचना!!!
    --------------------
    -डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'
    सम्पादक-प्रेसपालिका (जयपुर से प्रकाशित पाक्षिक समाचार-पत्र) एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष-भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान (बास) (जो दिल्ली से देश के सत्रह राज्यों में संचालित है।
    इस संगठन ने आज तक किसी गैर-सदस्य, सरकार या अन्य किसी से एक पैसा भी अनुदान ग्रहण नहीं किया है। इसमें वर्तमान में ४३६६ आजीवन रजिस्टर्ड कार्यकर्ता सेवारत हैं।)। फोन : ०१४१-२२२२२२५ (सायं : ७ से ८) मो. ०९८२८५-०२६६६

    ReplyDelete
  2. महारानी से रानीमाँ -बहुत अच्छी सोच. यही होना चाहिये तो कोई द्वन्द ही न हो सास बहु में अस्तित्व के बोध को लेकर-बधाई.

    ReplyDelete
  3. अगर ऐसा औरत सोचने लगे तो राम राज्य आ जाये……………किसी घर मे कलह के बादल ना मंडरायें ………………हर घर मे सिर्फ़ अस्तित्व कि ही तो लडाई है……………सिर्फ़ इतना समझ ले तो सच मे हर घर ,घर बन जाये।

    ReplyDelete
  4. इस नए सुंदर से चिट्ठे के साथ आपका हिंदी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  5. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    ReplyDelete
  6. बधाई हो आपकी सोच तो बहुत ही सुलझी हुई है.
    यदि आपकी ही तरह से सभी सास और बहुएं सोचने लगें तो फिर सास-बहू के झगडे ही न हों. माँ-बेटे में बहू को लेकर फूट ही न पड़े.
    बहुत-बहुत शुभकामनायें रानी माँ होने पर. :-)

    ReplyDelete
  7. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "हिन्दप्रभा" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    ReplyDelete
  8. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "हिन्दप्रभा" (Hindprabha) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    ReplyDelete
  9. वाह क्या सुन्दर सोच है, राम करे सभी औरतों ( आदमियों में भी) यह सोच विस्तार करे.

    ReplyDelete